इंडियन कोऑपरेटिव डिजिटल प्लेटफॉर्म

इफको और ग्रुप कंपनियों के साथ व्यावसायिक अवसर
बीमा एजेंट

माइक्रो का मतलब है छोटा, बीमा के टर्म में माइक्रो इंश्योरेंस का मतलब चोट इंश्योरेंस से है। इसका मतलब कम प्रीमियम पर कम सम-अस्स्योर्ड है।

  • असंगठित क्षेत्र में, इन फॉर्मल सेक्टर।

  • आर्थिक रूप से कमजोर या ग्रामीण/शहरी क्षेत्र के पिछड़े वर्ग।

  • गरीबी रेखा से नीचे।

  • खरीदने की कम क्षमता रखने वाले लोग।

आम तौर पर एक माइक्रो इंश्योरेंस प्रोडक्ट का मतलब है।

  • स्वास्थ्य बीमा कॉन्ट्रेक्ट।

  • झोपडी, पशु या उपकरण का बीमा।

  • व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा (अकेला/समूह)।

ई आर डी ए द्वारा स्वीकृत

कवर का प्रकार अधिकतम कवर (रूपये में)
घर या उसमें रखी चीजें, पशु, उपकरण, घोषित संपत्ति या फसल बीमा 100000 प्रति संपत्ति
स्वास्थ्य बीमा (व्यक्तिगत) 100000
स्वास्थ्य बीमा (समूह/परिवार) 250000
दुर्घटना बीमा (व्यक्तिगत/ परिवार/समूह) 100000

माइक्रो इंश्योरेंस बेचने वाले प्रतिनिधि को माइक्रो इंश्योरेंस एजेंट कहते हैं।

  • प्राथमिक कृषि सहयोग समिति (पैक्स)/ कोऑपरेटिव सोसाइटी।

  • गैर सरकारी संगठन (एनजीओ)।

  • स्वयं सहायता समूह (एसएचजी)।

  • जिला केंद्रीय सहकारी बैंक (डीसीसीबी)।

  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (आरआरबी)।

एक ईमेल पर भेजें. ईमेल मिलने पर एक प्रतिनिधि आपसे संपर्क करेगा. इसके बाद इफको टोक्यो जीआईसी लिमिटेड का माइक्रो इंश्योरेंस एजेंट बनने के लिए आपको इन कागजों की जरूरत पड़ेगी।

  • सहमति प्रमाण पत्र।

  • सोसाइटी के नामित सदस्य का हस्ताक्षर।

  • सोसाइटी की मुहर से सत्यापित।

  • पंजीकरण सर्टिफिकेट/ पैन कार्ड (जरूरी)।

  • एनईएफटी विवरण/ बैंक विवरण/रद्द चेक (जरूरी)।

आप अपने खुद के मालिक बन सकते हैं, अपना खुद का पे चेक लिख सकते हैं। यह एकमात्र व्यवसाय है जिसके लिए आपको निवेश की आवश्यकता नहीं है।
आप अपने सम्बन्धो और विचारों से उच्च मुनाफे वाले जनरल इंश्योरेंस बाजार को आज़मा सकते हैं। इस पेशे से आप अपनी आय का एक अच्छा खासा हिस्सा बना सकते हैं और उसे साल दर साल जारी रख सकते हैं।

  • आयु: 18 वर्ष से अधिक लेकिन 75 से ज्यादा नहीं। 75 वर्ष से अधिक आयु वाले छात्रों एमबीबीएस डॉक्टर द्वारा फिटनेस प्रमाणपत्र प्रदान करना होगा।

  • योग्यता: न्यूनतम योग्यता बोर्ड / संस्थान से 10 वीं पास या किसी भी समकक्ष परीक्षा पास। यदि आपके पास पहले से ही बीमा लाइसेंस है, तो योग्यता प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं है।

  • पैन कार्ड- उम्मीदवार के पास पैन कार्ड होना चाहिए।

  • प्रशिक्षण: हमारे इन-हाउस ट्रेनिंग सेंटर / शाखा कार्यालय / डिविजनल ऑफिस (नए लाइसेंस के लिए 50 घंटे और एजेंसी के नवीनीकरण के लिए 25 घंटे) में पूर्व-भर्ती प्रशिक्षण दिया जाएगा।

  • एजेंसी समझौते: आवेदक को अधिनियम के तहत सभी नियमों और शर्तों और प्रावधानों वाले समझौते पर हस्ताक्षर करने के लिए आवश्यक है।

  • बीमा परीक्षा: प्रत्येक नए उम्मीदवार को एक बीमा परीक्षा के माध्यम से जाना होगा, जो परीक्षा निकाय द्वारा आयोजित किया जाएगा, प्राधिकारी द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुसार एक एजेंट के रूप में नियुक्ति के लिए योग्य होगा।

नहीं, कोई व्यक्ति आईआरडीए के अनुसार किसी भी जनरल इन्शुरन्स कंपनी में अपने नाम पर केवल एक एजेंसी ले सकता है।

हां, आईआरडीए के अनुसार, एक व्यक्ति एक जीवन बीमा, एक जनरल इंश्योरेंस और एक स्टैंडअलोन स्वास्थ्य बीमा कंपनी के नाम पर एक एजेंसी ले सकता है।

आप विविध श्रेणी के जनरल इंश्योरेंस प्रोडक्ट्स जैसे- मोटर, स्वास्थ्य, ट्रैवल, पर्सनल दुर्घटना, गृह, वर्कमेन मुआवजा, फायर, मरीन इत्यादि बेच सकते हैं।

प्रशिक्षण लाइसेंसिंग परीक्षा को पास करने के लिए अनिवार्य है। एजेंसी के नवीकरण के लिए 50 घंटे एवं ताजा एजेंसी के लिए 25 घंटे प्रशिक्षण आवश्यक है।

  दस्तावेज आवश्यक दस्तावेज आवश्यक
Sr. No. नया लाइसेंस संमिश्र लाइसेंस
1 एजेंसी सूचना शीट एजेंसी सूचना शीट
2 संदर्भ पत्र संदर्भ पत्र
3 स्वयं घोषणा पत्र स्वयं घोषणा पत्र
4 व्यावसायिक प्रोजेक्शन शीट व्यावसायिक प्रोजेक्शन शीट
5 फॉर्म I-A फॉर्म I-B (जो कि पिछले बीमाकर्ता से सत्यापित होना चाहिए)
6 285 रुपये का एआरएन 285 रुपये का एआरएन
7 पैन कार्ड कॉपी पैन कार्ड कॉपी
8 कक्षा 10 वीं प्रमाणपत्र, 12 वीं प्रमाणपत्र कक्षा 10 वीं प्रमाणपत्र
9 केवाईसी (आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट कॉपी, ड्राइविंग लाइसेंस) केवाईसी (आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, पासपोर्ट कॉपी, ड्राइविंग लाइसेंस)
10 स्कोर कार्ड / यूआरएन विस्तार स्कोर कार्ड / यूआरएन विस्तार
11 एक पीडीएफ प्रारूप में एजेंट फोटो और हस्ताक्षर एक पीडीएफ प्रारूप में एजेंट फोटो और हस्ताक्षर
12 अनुबंध 100 रुपये स्टैंप पेपर
13 साक्षात्कार फार्म साक्षात्कार फार्म
14 प्रशिक्षण प्रमाणपत्र प्रशिक्षण प्रमाणपत्र

दिशानिर्देशों के अनुसार स्लैब 10% से 15% तक की सीमा है।

वाणिज्यिक वाहन के तीसरे पक्ष के बीमा के लिए, आयोग 1% है।

सम्पर्क करें