इंडियन कोऑपरेटिव डिजिटल प्लेटफॉर्म

इफको और ग्रुप कंपनियों के साथ व्यावसायिक अवसर
बीज उत्पादन

योग्यता

  • किसान का खेत आसानी से पहुंचने वाली जगह पर होना चाहिए. यह पांच एकड़ से कम नहीं हो और किसी पक्के रोड से कनेक्टेड हो।

  • किसान का रवैया सहयोग का हो, विभिन्न कृषि प्रक्रिया में उसकी रूचि हो और उसे अलग-अलग फसल के बारे में पर्याप्त जानकारी हो।

  • किसान का रवैया सहयोग का हो, विभिन्न कृषि प्रक्रिया में उसकी रूचि हो और उसे अलग-अलग फसल के बारे में पर्याप्त जानकारी हो।

  • उसके पास मजदूरों की पर्याप्त उपलब्धता हो।

  • उन किसानों को प्राथमिकता दी जाएगी जिनके पास सिंचाई के साधन, कृषि उपकरण और संसाधनों की पर्याप्त उपलब्धता हो।

  • किसान को आईएफएफडीसी के साथ विशेष रूप से बीज उत्पादन कार्यक्रम पर काम करना होगा।

  • किसान को इसके लिए आईएफएफडीसी के साथ अपने फॉर्मट में एक एग्रीमेंट करना होगा।

  • इस प्रक्रिया में किसी राज्य में लगने वाला पंजीकरण शुल्क या निरीक्षण फीस किसान को चुकाना पड़ेगा।

  • फसल और बीज का सर्टिफिकेशन सीड कानून (एनेक्सर-3) के तहत संबंधित सर्टिफिकेशन एजेंसी द्वारा किया जायेगा. सर्टिफिकेशन का खर्च आईएफएफडीसी द्वारा वहन किया जायेगा।

  • संयोजक को बीज उत्पादन का अनुभव होना चाहिए।

  • बीज संयोजक को खोजी, इंटरेस्टिंग, सहयोगी और वित्तीय रूप से समृद्ध होना चाहिए साथ ही उसमें जोखिम उठाने की क्षमता भी होनी चाहिए।

  • बीज संयोजक को कृषि की नई तकनीक अपनाने में दिलचस्पी होनी चाहिए।

  • बीज संयोजक द्वारा चुने गए इलाके को कॉम्पैक्ट, आसानी से निरीक्षण करने योग्य, आसानी से पहुंचने लायक और जरूरी संसाधनों (मजदूर, सिंचाई, उपकरण आदि) से युक्त होना चाहिए।

  • संयोजक के पास कम से कम 10000 क्विंटल की स्टोरेज कैपेसिटी होनी चाहिए।

  • बीज संयोजक के पास सर्टिफायड बीज के उत्पादन का लाइसेंस और पंजीकृत प्लांट होना चाहिए।

  • बीज प्रसंस्करण यूनिट और वेयरहाउस का मालिकाना हक बीज संयोजक के नाम से होना चाहिए।

  • वेयरहाउस वैज्ञानिक भंडारण के हिसाब से दुरुस्त होना चाहिए. इसमें पर्याप्त प्लिंथ लेवल और क्रेट्स आदि होना चाहिए।

  • बीज संयोजक के पास पैन/टिन नम्बर होना चाहिए और वह सालाना टैक्स भरता हो।

  • सर्टिफायड सीड बीज संयोजक से आपसी सहमति से तैयार शर्त और स्थितियों के हिसाब से खरीदा जायेगा।

  • आपसी सहमति के हिसाब से तय शर्त एवं स्थितियों के आधार पर राज्य कृषि विश्वविद्यालय/कृषि विकास संस्थान/राज्य बीज निगम से विभिन्न फसलों के बीज के उत्पादन के लिए समझौता (मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग) किया जायेगा।

सम्पर्क करें