इंडियन कोऑपरेटिव डिजिटल प्लेटफॉर्म

इफको ने की 'रुरल इनोवेशन स्कॉलरशिप' के परिणामों की घोषणा

लखनऊ में आयोजित एक समारोह में मिर्जापुर जिले के फतेहपुर गांव से श्री सुभाष सिंह को इफको रुरल इन्नोवेशन स्कॉलरशिप ग्रामीण छात्रवृत्ति दी गई। उन्हें 1 लाख रुपए और प्रशस्तिपत्र से सम्मानित किया गया। सुभाष सिंह का आईडिया छात्रवृत्ति के लिए प्राप्त लगभग 4000 प्रविष्टियों में से चुना गया है । उनका आईडिया था कि ईंट भट्ठे से बढ़ रही गर्मी को कैसे संभाला जाए जिससे 20 प्रतिशत प्रदूषकों का फैलना रोका जा सके। इस आइडिया के कई फायदे हैं। यदि ईंट भट्ठा मालिक इसे लागू करते हैं तो 20-25 प्रतिशत उसका निवेश कम हो जाएगा। साथ ही वायु प्रदुषण को कम करेगा और जमीन में गर्मी का निकास करके जमीन के पानी की कमी को भी रोकेगा। अकेले यूपी में 18 हजार से अधिक ईंट भट्टे हैं और इनसे निकलने वाले प्रदूषकों के कारण पर्यावरण के साथ-साथ वहां रहने वाले निवासियों के लिए खतरा बढ़ जाता है। जहां शहरी क्षेत्रों में बढ़ रहा प्रदूषण सुर्खियां बना जाता है वहीं ग्रामीण इलाकों में हवा की कम होती गुणवत्ता अक्सर अनदेखी हो जाती है। सुभाष सिंह ने इसे एक बड़ी चुनौती के रूप में देखा और इसका समाधान निकालने का फैसला किया।

पुरस्कार प्राप्त करते हुए सुभाष ने खुशी जाहिर की कि अंत में उनके पास अपने आइडिया को बनाने, कार्यान्वित करने और लागू करने के लिए सही मंच है। इस अवसर पर इफको के एमडी और सीईओ डॉ यूएस अवस्थी ने कहा कि आज ग्रामीण भारत के लोगों में आर्थिक और सामाजिक समानता लाने के लिए डिजिटल टेक्नॉलजी के इस्तेमाल की बहुत आवश्यकता है। इफको ऐसे उद्यमियों को पूरे ग्रामीण भारत में प्रोत्साहित करना जारी रखेगा। उन्होंने आगे कहा कि आवेदनों की बड़ी संख्या इस बात का प्रतीक है कि किसानों और ग्रामीण युवाओं के बीच ग्रामीण भारत में बदलाव लाने की इच्छा है। इसके अलावा यूपी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने भी इस प्रयास को स्वीकार किया और मान्यता दी है। वो विभिन्न संस्थानों में सुभाष के अध्ययन के परीक्षण की योजना तैयार करेंगे। इसके लिए सीबीआरआई रूड़की, आईआईटी से बात की जाएगी। प्रोफेसर जेपी चक्रवर्ती आईआईटी (बीएचयू) ने अपने सुभाष सिंह के इस आईडिया पर उनकी मदद की थी। उन्होंने कहा कि सुभाष चंद्र सिंह के साथ काम करना अच्छा अनुभव रहा। आईआईटी (बीएचयू) उनके आईडिया को पेटेंट करवाने में मदद करेगा और मैं आईआईटी (बीएचयू) का एक प्रतिनिधि हूं जो सीधे उनके साथ काम कर रहा है। एक बार पेटेंट दिया जाएगा उसके बाद हमें विश्वास है कि इसका व्यावसायीकरण करने में सक्षम होंगे। इससे वायुमंडलीय प्रदूषण कम हो जाएगा, ईंट के भट्टों में कोयले की आवश्यकता कम हो जाएगी और ईंट-फील्ड मालिकों के लाभ में वृद्धि होगी। आज मुझे बहुत खुशी है कि सुभाष की कोशिश को इफको ने सराहा और उन्हें इफको के द्वारा सम्मानित किया जा रहा है।



छात्रवृत्ति के लक्ष्य और उद्देश्य:

युवाओं में प्रतिभाओं के उपयुक्त इस्तेमाल हेतु, इफको ने “इफको रुरल इनोवेशन स्कॉलरशिप (IRIS)" छात्रवृत्ति की शुरुआत की है। इस छात्रवृत्ति का लक्ष्य विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में आने वाली कठिनाइयों को नये विचारों और सोच से हल करना है।

छात्रवृत्ति की श्रेणियाँ:

हम निम्नलिखित क्षेत्रों से संबंधित चुनौतियों का डिजिटल तकनीक व नयी सोच पर आधारित समाधानों के लिए आवेदन आमंत्रित कर रहे हैं:

  • कृषि (किसान, खेती, फसलें, उर्वरक व कृषि मशीनरी)
  • मूलभूत ढाँचा
  • स्वास्थ्य (महिला स्वास्थ्य, बाल स्वास्थ्य आदि)
  • स्वच्छता (सफाई, रीसाइक्लिंग फार्म अपशिष्ट आदि)
  • शिक्षा
  • बुजुर्गों की देखभाल

छात्रवृत्ति राशि : ₹ 1,00,000

चयन:

चयन निर्णायक समिति के एक पैनल द्वारा किया जाएगा। निर्णायक समिति का गठन डिजिटल और सामाजिक क्षेत्र के कुछ प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों द्वारा किया जाएगा।

नियम एवं शर्तें:

  • अपने नवीन सुझाव का विस्तार से वर्णन करेंI छात्रवृत्ति इस पर आधारित होगी|
  • आवेदक आयु 18 और उससे ऊपर है|
  • फॉर्म जमा करने की अंतिम तिथि 5 जून 2017 है|